छिपी हुई इंटरनेट के रहस्यों की दुनिया जो शायद आप नहीं जानते !!

इंटरनेट के बगैर अगर कोई आपको एक दिन गुजारने को कहे तो शायद आपके लिए यह बहुत मुश्किल होगा, क्योंकि आज के दौर में इंटरनेट हमारे जीवन में इस कदर बस गया है की, मानो यह जिंदगी का ही एक अटूट (Inexhaustible) हिस्सा हो। वर्तमान में हर इंसान को किसी ना किसी प्रकार की जानकारी चाहिए, इसलिए वह कंप्यूटर या स्मार्टफोन के जरिए इंटरनेट का उपयोग करता है।

कुछ लोग पूरे रात दिन इंटरनेट का इस्तेमाल करते रहते है। फिर भी ऐसे लोग अपने जीवनकाल में सिर्फ 4% ही इंटरनेट का इस्तेमाल करते रहते हैं, चाहे वो google, facebook, twitter या फिर कोई और ही वेबसाइट क्यों न हो। बाकी के 96% इंटरनेट आप और हम जैसे लोग इस्तेमाल नहीं कर पाते, क्योंकि वह आम लोगों से छिपी होती है।

आज में इस आर्टिकल में Surface Web, Deep Web और Dark Web के बारे में विस्तार में बताने वाला हूं। मैं एक बात क्लियर कहना चाहता हूं की इस आर्टिकल का मकसद केवल नॉलेज देना है और जो भी information देने वाला हूं उसका दुरुपयोग (misused) मत करना, वरना नुकसान आपको ही होगा।

दोस्तों, इंटरनेट को हमने 3 भाग में डिवाइड किया है। सबसे पहला है Surface Web, दूसरा है Deep Web और आखिर में तीसरा Dark Web है। चलिए अब तीनों के बारे में विस्तार से जानते है।

सरफेस वेब (Surface Web)

यह वो इंटरनेट है जो आज के समय में दुनिया का हर सामान्य इंटरनेट उपयोगकर्ता उपयोग करता है। Surface Web वो है जो दुनिया में कोई भी internet users कभी भी, कही भी किसी की permission के बिना internet को access कर सकता है।

आपने जितनी भी website देखी हो, चाहे वो Entertainment Website हो, या फिर News जो भी आप google में search करते हो और वो google में index होती है, वह सब surface web का ही एक हिस्सा है। Surface web पुरे internet का केवल 4% ही है और बाकि के Deep Web में आता है। एक survey के अनुसार करीब करीब 96% जो internet है वह deep web है।

डीप वेब (Deep Web)

इसको deep web इसलिए कहा जाता है की इसके server कहा से आ रहे है और उनका owner कोन है ये सब आप trace नहीं कर सकते और सबसे बड़ी बात यह है कि यह हमारे normal browser (for chrome, opera, internet explorer) से access नहीं हो सकता।

2001 में एक research हुई थी जिसमे पता लगा की deep web 7.6 zettabytes यानि की 7500 gigabytes अपने आप में stored करता है। डीप वेब की ज्यादातर जानकारी .com में नहीं बल्कि .onion में होती है। इसको आप deep web की top level का डोमेन भी कह सकते है। जैसे की surface web की top level domain .com है वैसे ही deep web की .onion है।

Deep Web को access करने के लिए Tor Browser का used होता है, हालांकि मैं इसके खिलाफ हूं, क्योंकि यह एक illegal activity है और इससे आपकी privacy को खतरा भी हो सकता है। Tor Browser आपकी ip address को hide कर देता है और हमारे जो data है उनको encrypt कर देता है और कोई भी हमारे traffic को analysis नहीं कर पाता। यहाँ तक की goverment भी इसको analysis नहीं कर पाती।

डीप वेब में क्या क्या स्टोर होता है?

इसमें गवर्नमेंट एजेंसी के कई secret files, Google Drive का database, biggest banks की information, इत्यादि होती है। Deep Web में जो stored होता है वह google में non index होता है, जिसको google search engine के through search नहीं कर सकते। यह बहुत secure system होता है और इसको directly access नहीं कर सकते। उसके लिए आपके पास particularly URL या फिर ID/PW होना चाहिए।

For Example : आप अपने Email को google में search नहीं कर सकते इसके लिए आपको particular id/pw चाहिए तब आप particular url पर login करके देख सकते हो। जितनी भी cloud storage की वेबसाइट होती है वो Deep Web में आती है।

Deep Web पर आप banned की हुई books पढ़ सकते हो और साथ ही कुछ अहम् information देखी या खरीदी जा सकती है। यहाँ तक की drugs और weapons भी illegal तरीके से खरीदी और बेचीं जा सकती है।

डार्क वेब (Dark Web)

इसको इन्टरनेट की दुनिया का काला पर्दा (black curtain) भी कहा जाता है, क्योंकि यहाँ हर तरह की illegal Activity होती रहती है। यहाँ पैसे की बजाय virtual money, bitcoin से payment होता है। यहाँ पर सरकारी या ग़ैरसरकारी जासूसी, ड्रग्स बेचने से लेकर पॉर्न का कारोबार और मानव तस्करी तक, सब कुछ internet की इस काली दुनिया में खुलेआम होता है।

Dark Web पर कुछ ऐसी websites होती है जिस पर visit करते ही आपके pc में automatically keylogger installed हो जाती है और आपको पता भी नहीं चलता और आपकी personal information record कर लेता है। और यह आपकी privacy के लिए एक खतरे की घंटी के सामान है। इस web को control करने के लिए कोई guidelines नहीं है।

आज अपने क्या सीखा?

दोस्तों आज की इस पोस्ट लिखने का उद्देश्य केवल आपको अच्छा ज्ञान देना था। टेक्निकल विषयों से लेकर इथिकल हैकर तक इसका कोई संबंध नहीं है। इसलिए आप इन चीजों से दूर रहें।

नमस्ते, मेरा नाम अभिषेक है, और मैं एक वेब डेवलपर हूं। मेरा दिल तकनीक, वेब विकास, और नवाचार के प्रति बहुत गहरी प्रेमभावना से भरा हुआ है। मुझे प्रोग्रामिंग करने और खुद से चीजें बनाने में भी बड़ी रुचि है।

Leave a Comment