एंड्रॉयड फोन में कौन-कौन से Sensors होते हैं?

आज की इस पोस्ट में आपको मैं various sensors, जो की आपके smartphone में used होती है, उसके बारे में बात करने वाला हूं। suppose, आप जब भी कोई Ecommerce Website से smartphone purchase करने जाते हो और उसके feature में देखते हो तो आपको बहुत सारे sensor पढ़ने को मिलते है, और हमें idea भी नहीं होता की कोन सा sensor किस काम में इस्तेमाल होती है। इसलिए आज की इस पोस्ट में हम मोबाइल फोन में इस्तेमाल होने वाले विभिन्न सेंसर के बारे में जानेंगे।

Accelerometer Sensor

दोस्तों, सबसे पहला sensor आपके smartphone में used होती है, वो है Accelerometer सेंसर। यह sensor आपके mobile में software को बताती है की आपने phone किस angle में, किस postion में हाथ में पकड़ा हुआ है। आपने mobile में auto rotate का option जरूर देखा होगा, जब आप अपने mobile phone की setting में जाकर इस option को ON करते है तो इससे होता यह है की आप आपने mobile को horizontally पकड़ा है और उस वक्त movie या photo देख रहे हो तो यह movie/photo आपको horizontal angle में दिखाई देंगी। इसके अलावा कुछ smartphone में यह sensor इस काम में आती है की आपको कोई call आ रही हो और आप phone को उल्टा रख देते है तो call silent mode में चली जाएँगी।

Gyroscope Sensor

अब हम दूसरे sensor की बात करते है, जिसका नाम है Gyroscope सेंसर। यह sensor भी Accelerometer sensor की तरह काम करती है, लेकिन यह थोड़ा सा advance sensor है। इस sensor की मदद से smartphone के software को छोटी से छोटी information है वो बहुत से अच्छी (clearly information) तरीके से मिलती है। For Example आपको हर एक mode पर, mobile किस angle पर है, किस जगह है, कोन सी situation में है, उसकी हरे एक बारीकी को यह sensor define करती है और mobile को बताती है। इसकी के कारण हम android games खेल पाते है।

यह sensor कुछ एक apps में भी काम आती है, जैसे की आपने Google की photosphere Apps देखि होंगी, उसमे आप 360 degree में तस्वीर बनाते है। इसमें होता यह है की जब आप तस्वीर बनाते है तो mobile को पता होता है की किस angle पर तस्वीर बनानी है, इसलिए वह इस sensor की मदद से सारी तस्वीर जोड़कर screen पर 360 degree की photo दिखाती है। इसके अलावा बहुत सारे android games में भी gyroscope sensor का इस्तेमाल होता है।

Magnetometer Sensor

यह एक तरह का magnet sensor है। simply language में कहु तो इसका काम compass की तरह है जो हमें दिशा बताने में मदद करती है। अगर आपके mobile में magnetometer sensor नहीं है तो आप maps या किसी और compass की application में direction नहीं देख पाएंगे।

Magnetometer sensor का एक और काम है metal detector का, क्योंकि यह एक मैगनेट है। आप अगर आप metal अपनी मोबाइल के नजदीक ले जाएंगे तो वह बता देंगे आपके मोबाइल के पास कोई मेटल है या नहीं।

Proximity Sensor

Proximity sensor एक टाइप की infrared light होती है उसको फेंकता है और चेहरे की स्किन से टकराकर वापिस mobile में चला जाता है और mobile की light को turn off कर देता है। proximity sensor आपके mobile की बाहर front camera के आसपास नजर आती है और इसका काम आपके फ़ोन से आपकी चहरे की स्किन की नजदीकी मापनी होती है।

Berometer Sensor

इस sensor का काम atmosphere का pressure मापना होता है। यह sensor आपके मोबाइल में है तो आप sea level से कितनी ऊंचाई पर है यह जान सकते है। इस berometer की मदद से आप जितना भी ऊपर जाएंगे उसके according to atmosphere change होगा और mobile में यह sensor होगा तो GPS की मदद से वह जान लेगा की आप कितनी ऊंचाई पर हो, साथ ही exact location का पता लगा लेता है।

Thermometer Sensor

वैसे तो हर smartphone में thermometer sensor होता है, लेकिन basically इसका काम मोबाइल में internal tempareture को मापना होता है। यह sensor आपके compressor या battery को नापता है, इसके अलावा phone में लगे तमाम parts का भी ध्यान रखती है। अगर कोई ज्यादा पार्ट गरम हो गया हो तो ये उनकी speed को यह slow कर देती है।

Fingerprint Sensor

Fingerprint 3 तरीके के होती है Arch, Loop और Wholr:

Arch Fingerprint: इसमें यह होता है की pattern स्टार्ट होता है और एकदम deep तक जाता है और बीच में finger करके वापिस (back) नीचे आ जाता है।
Loop Fingerprint: यहाँ पर loop एक तरफ चलता है, फिर बीच तक आता है और वापिस (back) घूमके आ जाता है।
Wholr Fingerprint: इसके अंदर एक circle pattern देखने को मिलती है। fingerprint हरेक इंसान का unique होता है और यह इंसान के DNA पर depend करता है।

NFC

इसको के Near Field Communication के नाम से भी जाना जाता है। यह एक short field wireless communication की technology है, जो बहुत कम डिस्टेंस (short distance) पर काम करती है। Suppose, आपको २ मोबाइल के बीच में data transfer करना है तो आप NFC का use कर सकते है और use करते समय २ mobile के बीच में कम से काम 4 से 5 cm का कम distance होना जरुरी है।

आज अपने क्या सीखा?

I hope दोस्तों कि आपको यह post पसंद आई होगी और आपके सारे Doubts clear हो गये होंगे अगर फिर भी आपके मन में कोई Doubt हो या मेरी कोई Help चाहिए तो contact page पर जाकर हमें comment करके बता दीजिये, मुझे भी आपकी Help करके बड़ी प्रसन्नता होगी।

नमस्ते, मेरा नाम अभिषेक है, और मैं एक वेब डेवलपर हूं। मेरा दिल तकनीक, वेब विकास, और नवाचार के प्रति बहुत गहरी प्रेमभावना से भरा हुआ है। मुझे प्रोग्रामिंग करने और खुद से चीजें बनाने में भी बड़ी रुचि है।

Leave a Comment