तेनाली रामा की चतुराई की मजेदार कहानी

तेनाली रामा की चतुराई की मजेदार कहानियां आपने बहुत सारी सुनी होगी। आज ऐसी ही एक कहानी के बारे में बात करेंगे की तेनाली रामा ने कैसे अपने खास मित्र की मदद करने के लिए पुरे गाँव के लोगों से एक ही रात में पूरा खेत जुतवा लिया।

एक दिन की बात है जब तेनाली रामा अपने दोस्त के साथ आम के बाग में बैठे थे। तब उन्होंने अपने मित्र को थोड़ा परेशान देखा। और अपने मित्र से पूछा की तुम इतने परेशान क्यों हो?

तभी उनके मित्र ने बताया की कर्जे की वजह से साहूकार ने उनका एक बैल पहले ही ले लिया था और अब एक ही बैल बचा है और कल सुबह तक पूरे खेत की जुताई नहीं की तो वो घर भी ले लेगा।

अब एक बैल से कैसे पुरे खेत की जुताई होगी, और मेरे पिताजी की तबियत भी ख़राब है। मेरे पास अब एक ही सोने का सिक्का बचा है।

तभी तेनाली रामा को के तरकीब सूजी। उन्होंने अपने मित्र से सोने का सिक्का लिया। उसके बाद एक नकली सिक्के से भरी पोटली में एक सोने का सिक्का रख दिया।

उसके बाद वो उनके मित्र के साथ बाजार में गए और वो सबको सुनाने के लिए जोर जोर से बात करने लगे की उनको बहोत खजाना मिला है। देखो मेरे पास सोने के सिक्को से भरी पोटली है।

उस पोटली में से उन्होंने सोने का सिक्का निकला और सबको दिखाने लगे और उस सिक्के को निचे गिरा दिया। तब उनके मित्रने कहा की रामा सोने का सिक्का गिर गया तभी उन्होंने जवाब दिया की कोई बात नहीं हमारे पास बहोत सारे सिक्के है। और भी बहोत सारा खजाना अभी तुम्हारे खेत से निकालना भी तो बाकी है।

ये सारी बाते सभी गांव के लोग सुनते है और उनको खजाने का लालच आया। जैसे ही रात हुई तभी सारे गांव वाले तेनाली रामा के मित्र के खेत में पहुंच जाते है और खजाने के लिए खेत मे जुताई शरू कर देते है।

पूरी रात जुताई करने के बावजूद उनको कोई खजाना नहीं मिलता है, लेकिन पुरे खेत की जुताई जरूर हो जाती है। तेनालीरामा ने इस तरह अपनी चतुराई से अपने खास मित्र की मदद करने के लिए पुरे गाँव के लोगों से एक ही रात में पूरा खेत जुतवा लिया।

आज आपने क्या सीखा?

इस कहानी से हमें एक महत्वपूर्ण सिख सिखने को मिलता है। तेनाली रामा ने अपने मित्र की मुश्किलों में उसका साथ दिया और उसे आशा की किरण दिखाई। उन्होंने चालाकी से लोगों को एक साथ लाकर एक बड़े संघर्ष को आसान बना दिया। यह हमें याद दिलाता है कि हमें अपने साथियों के साथ हमेशा सहायता करनी चाहिए और उनके समस्याओं में उनका समर्थन करना चाहिए।

साथ ही, यह कहानी हमें दिखाती है कि अगर हम चाहें तो हम अपनी चतुराई और नैतिकता के जरिए किसी भी मुश्किल को पार कर सकते हैं। इसलिए हमें हमेशा नये और सकारात्मक दृष्टिकोण से हर मुश्किल का सामना करना चाहिए। इस तरह के सहयोग और सामूहिकता हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है।

Share your love
अभिषेक प्रताप सिंह

अभिषेक प्रताप सिंह

राम-राम सभी को मेरा नाम अभिषेक प्रताप सिंह हैं, मैं मध्य प्रदेश का रहना वाला हूँ। हिन्दीअस्त्र पर मेरी भूमिका आप सभी तक ज्ञानवान और मजेदार आर्टिकल पहुंचाना है, ताकि आपको हर दिन नई जानकारी प्राप्त हो सके।

Articles: 88

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *